क्या ‘नो मीन्ज नो’ सिर्फ लड़कियों के लिए है: रितिक रोशन

cx

बॉलिवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और रितिक रोशन विवाद के मामले में आखिरकार रितिक रोशन ने भी अपनी चुप्पी तोड़ते हुए खुलकर बात करनी शुरू कर दी है। एक टीवी चैनल के इंटरव्यू में कंगना से जुड़े मामले पर रितिक ने कई सनसनीखेज खुलासे किए और कई सवाल भी उठाए। रितिक ने कहा कि क्या ‘नो मीन्ज नो’ वाली बात सिर्फ लड़कियों के लिए लागू होती है।

रितिक ने कहा, ‘एक फिल्म रिलीज़ हुई थी पिंक, बहुत खूबसूरत फिल्म थी। उस फिल्म का असर निजी तौर पर मुझपर बहुत ज्यादा हुआ है। उस फिल्म का असर है कि आज मैं यह सब कह पा रहा हूं। फिल्म का एक बेहद अच्छा डायलॉग है नो मीन्ज नो और इस डायलॉग को मैंने कई बार सुना और सोचा क्या यह लाइन सिर्फ लड़कियों पर ही अप्लाई होती है। नारीवाद क्या यही चीज है। क्या यह महिला-पुरुष की बराबरी है। एक समय ऐसा आया जब मुझे लगा अब बहुत हो गया।’

रितिक आगे कहते हैं, ‘मैंने जैसे ही इस मामले में लीगल नोटिस भेजा, उसी समय मैं दुनिया के सामने आक्रमक विलन बन गया। हमारे देश का कानून एक अच्छे ढंग से अपनी बात कहने का मौका देता है। अगर यह मीडिया ट्रायल नहीं होता और मैं कोर्ट में जाकर अगर केस जीत जाता तो लोग कहते मैंने कोर्ट को खरीद लिया है क्योंकि मैं अमीर हूं।’

फिल्म इंडस्ट्री की खासियत और इंडस्ट्री में रिश्ते तलाशते लोगों को सचेत करते हुए रितिक ने कहा, ‘मेरी फिल्म इंडस्ट्री सबसे सुन्दर जगहों में से एक है। यहां बेहद खूबसूरत और कलाकार लोग काम करते हैं। लोग इस फिल्म इंडस्ट्री को ठीक से समझते नहीं हैं और समस्या वहीं शुरू हो जाती है। फिल्म इंडस्ट्री आपका ऑफिस है, जहां आप काम करने आते हैं। अगर आप इस इंडस्ट्री में पिता, दोस्त, बीवी, पति और प्रेमी की तलाश करेंगे तो आपको सचमुच निराशा होगी।’

रितिक अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, ‘यह ठीक उसी तरह है जैसे एक चिड़िया दुनिया भर में घूमकर तिनका-तिनका इकठ्ठा करती है और कहीं दूर अपना घोंसला बनाती है। ठीक इसी तरह यह फिल्म इंडस्ट्री है, यहां लोगों को आकर अपनी जरूरत की चीजें लेकर अपना घर यहां से दूर बनाना चाहिए। अगर आप यहां किसी रिश्ते की तलाश करेंगे तो आप ध्वस्त हो जाएंगे। कुछ लोग यह बात नहीं समझते हैं। इसी वजह से लोग निराश होते हैं और बाद में झगड़ा होता है। मैंने इस पूरे मामले से बहुत कुछ सीखा है। अब कभी ऐसा कुछ फिर से भविष्य में होगा तो मैं इस तरह इंतजार और इग्नोर नहीं करूंगा बल्कि पहली ही बार में आक्रमक फैसले और ऐक्शन लूंगा।’

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Don't have account. Register

Lost Password

Register