ऑड-ईवन की आज हुई असली परीक्षा, दो दिन में काटे गए 2300 से ज्यादा चालान

odd-even-580x395.jpg

नई दिल्ली: तीन दिन की छुट्टी के बाद आज दफ्तरों, स्कूलों और दूसरे संस्थानों के खुलने के साथ ऑड- ईवन योजना के दूसरे चरण की असल परीक्षा हुई. इस दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज ऑफिस पहुंचने के लिए परिवहन मंत्री गोपाल राय के साथ कार शेयर की. 15 अप्रैल से इस योजना के लागू होने के बाद आज पहले वर्किंग डे पर आईटीओ और अक्षरधाम के पास आज सुबह भारी जाम देखा गया.
 
परिवहन मंत्री गोपाल राय ने कहा, ‘आज ऑड- ईवन की असली परीक्षा है. योजना के पहले चरण की तरह, हम सभी को इस दूसरे चरण को भी सफल बनाना है.’ केजरीवाल और उनके कैबिनेट मंत्री सत्येंद्र जैन ने आज दिल्ली सचिवालय तक पहुंचने के लिए गोपाल राय के साथ कार साझा की. बुराड़ी, उत्तम नगर और अन्य कई इलाकों में डीटीसी और क्लस्टर बसें यात्रियों से भरी नज़र आई.
 
आपको बता दें कि योजना के दौरान और अधिक यात्रियों को लाने-ले जाने के लिए मेट्रो ने अपने फेरे बढ़ा दिए हैं. योजना के लागू होने के बाद आज पहला फुल वर्किंग डे है. दिल्ली सरकार ने ऑड- ईवन योजना के नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए जिला मजिस्ट्रेट्स, एसडीएम, एडीएम और तहसीलदारों को तैनात किया है.
 
इसके साथ ही ऑड-ईवन नियम का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ कार्रवाई के लिए राजधानी की सड़कों पर परिवहन विभाग की ब्रांच के 210 दलों के अलावा ट्रैफिक पुलिस के 2000 कर्मियों को भी तैनात किया गया है.
 
योजना के पहले चरण में जहां जागरूकता और खुद से पालन पर ज़ोर था, वहीं इस बार सरकार उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है. पहले दो दिन में अब तक 2300 से ज्यादा चालान काटे जा चुके हैं. जबकि एक जनवरी से 15 जनवरी तक के पिछले चरण में इतने ही समय में महज 479 चालान काटे गए थें.
 
रविवार के अलावा बाकी दिनों में सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक लागू इन नियमों का उल्लंघन करने पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 2000 रूपए का जुर्माना लगाया जाता है.
 
इससे पहले रविवार को सरकार की ओर से मांगें माने जाने का लिखित आश्वासन मिलने के बाद दिल्ली ऑटोरिक्शा यूनियन और दिल्ली टैक्सी यूनियन ने सोमवार से हड़ताल करने की अपनी अपील वापस ले ली.
 
15 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चलने वाले इस दूसरे चरण में सरकार ने योजना के नियमों से छूट वाली लिस्ट में उन लोगों को भी शामिल कर लिया है, जो स्कूल यूनिफॉर्म पहने बच्चों के साथ जा रहे होंगे.
 
हालांकि सरकार इस बात का हल नहीं निकाल पाई कि बच्चों को स्कूल छोड़कर आ रही या छुट्टी के समय उन्हें लेने जा रही कारों में सवार लोगों को होने वाली समस्या का निपटान कैसे होगा? इस क्रम में सरकार ने कार-पूलिंग का सुझाव दिया है.

By: एबीपी न्यूज़/एजेंसी |
Last Updated: Monday, 18 April 2016 4:12 PM
Source: http://abpnews.abplive.in/india-news/real-test-for-odd-even-359517/

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Don't have account. Register

Lost Password

Register